Ticker

6/recent/ticker-posts

क्या आप गिलोय के इन फायदे के बारे में जानते हो? - Do You Know these Benefits of Giloy in Hindi

गिलोय के बारे में आपने कभी न कभी अपनी ज़िन्दगी में सुना जरूर होगा ये जड़ीबूटी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है, जो कई बीमारी पैदा करने वाले बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम होती है, ऐसा माना गया है की गिलोय का सेवन करने से आपकी इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद मिलती है। 

इसलिए हमने सोचा की इस लेख के जरिए गिलोय के फायदों के बारे में लोगो को अवगत करवाया जाए। इस लेख में हम आपको गिलोय के फायदे, इसके नुकसान इसमें पाए जाने वाले घटक अथवा इसके सेवन करने के बारे में बतायेंगे। 


Do You Know these Benefits of Giloy in Hindi


गिलोय क्या है? - What is Giloy in Hindi


गिलोय का वैज्ञानिक नाम टीनोस्पोरा कार्डीफोलिया है, इसको संस्कृत में अमृता(अमृत के सम्मान) के नाम से भी जाना जाता है। यह कभी न सूखने वाली एक बेल होती है, इसकी तासीर गर्म होती है,  इसका तना देखने में रस्सी जैसा लगता है इसके पत्तो का आकार पान के पत्तो के जैसा होता है, इसके फल मटर के बीज के जैसे लगते है, गर्मियों में इसमें छोटे पीले फुल उगते है, नर पौधे में गुछे के रूप में और मादा अकेले मौजूद होते है, इसकी पहचान इसके फूल को देखकर ही की जाती है। 

इसकी सबसे ख़ास बात यह मानी जाती है की यह जिस पेड़ पर लिपट जाती है उस पेड़ के कई औषधीय गुण भी गिलोय के औषधीय गुण में समाहित हो जाते हैं। इसलिए नीम के पेड में पायी जाने वाली गिलोय अत्यंत लाभकारी मानी जाती है। 


गिलोय के फायदे - Benefits of Giloy in Hindi

वैसे तो आयुर्वेद में गिलोय को संपूर्ण शरीर को स्वस्थ रखने के लिए लाभकारी माना गया है, पर हम आपको गिलोय से होने वाले कुछ फायदों से अवगत करवाते है -


  • गिलोय में काफी मात्रा में हाइपोग्लाईकैमिक एजेंट पाए जाते हैं, जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं। डायबिटीज के ऐसे मरीज जिन्हें टाइप-2 डायबिटीज की समस्या है, उनके लिए गिलोय का सेवन काफी लाभकारी सिद्ध हो सकता है। 
  • गिलोय सभी प्रकार के बुखार में फायदेमंद होती है। विशेष रूप से डेंगू, चिकनगुनिया, स्वाइन फ्लू, सर्दी, खांसी,जुकाम में भी लाभकारी है।
  • गिलोय के सेवन से सांस संबंधित बीमारियां जैसे अस्थमा और खांसी आदि में फायदा होता है। अगर आपको कफ और सांस लेने में परेशानी होती है तो गिलोय का सेवन जरूर करे।
  • अर्थराइटिस की बीमारी में जोड़ों में यूरेट डिपॉजिट हो जाता है जिसको दूर करने के लिए गिलोय का सेवन बहुत मददगार साबित हो सकता है। 
  • गिलोय अपने आप में इम्युनिटी बूस्टर माना गया है यहाँ आपके शरीर से टॉक्सिन को निकालता है, मूत्रनली के संक्रमण को दूर करता है अथवा लिवर से जुड़ी बीमारियों से लड़ता है।
  • पीलिया जैसी बीमारी में भी गिलोय का सेवन काफी लाभकारी होता है। 




गिलोय में पाए जाने वाले पोषक तत्व - Nutrients found in Giloy in Hindi

Nutrients found in Giloy in Hindi

 

100 ग्राम गिलोय में लगभग - 

3.34 ग्राम कार्बोहाइड्रेट
2.30 ग्राम प्रोटीन
11.32 ग्राम फाइबर
5.87 मिलीग्राम लोहा
85.24 मिलीग्राम कैल्शियम
303.7 माइक्रोग्राम विटामिन ए
56 मिलीग्राम विटामिन सी


👉जरूर पढ़ें - क्या आप अंजीर खाने के फायदे और नुकसान जानते है? - Do You Know the Advantages and Disadvantages of Eating Figs in Hindi


गिलोय के नुकसान और सावधानियां - Side Effect of Giloy in Hindi

अगर आप ज़रुरत से ज्यादा मात्रा में गिलोय का सेवन करते हैं तो आपको गिलोय के नुकसान भी झेलने पड़ सकते हैं। आइये जानते हैं कि गिलोय के नुकसान - 


  • सर्जरी कराने से पहले गिलोय का सेवन बंद करने की सलाह दी जाती है, दरसल गिलोय दरअसल सर्जरी के दौरान आपका ब्लड प्रेशर संतुलित रहना चाहिए, लेकिन गिलोय आपके ब्लड प्रेशर को प्रभावित कर सकता है इसलिए सर्जरी से पहले इसका सेवन बंद कर दें।
  • गिलोय कई बार इम्यून सिस्टम को अधिक उत्तेजित कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप ऑटोइम्यून डिसऑर्डर के लक्षण जैसे कि ल्यूपस, मल्टीपल स्केलेरोसिस और रूमेटाइड अर्थराइटिस हो सकते हैं।
  • गिलोय रक्त शर्करा के स्तर को काफी कम कर देता है। ऐसे में आपको लो ब्लड शुगर लेवल होने से कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के होने का खतरा पैदा हो सकता है इसलिए इसका नियमित मात्रा में सेवन करे। 


आशा करते है की इस लेख (क्या आप गिलोय के इन फायदे के बारे में जानते हो? - Do You Know these Benefits of Giloy in Hindi) के द्वारा आप गिलोय के फायदे और नुकसान से भलीभांति परिचित हो चुके होंगे। एक बात का हमेशा ध्यान रखें कि गिलोय जूस या गिलोय सत्व का हमेशा सीमित मात्रा में ही सेवन करें, अगर आप किसी रोग से ग्रस्त है तो कृपया गिलोय का सेवन करने से पहले अपने नजदीकी डॉक्टर की सलाह जरूर ले।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ