Ticker

6/recent/ticker-posts

महारत्न कंपनी के बारे में सम्पूर्ण जानकारी।

नमस्कार दोस्तों, आपका हमारे लेख में स्वागत है। इस लेख में हम भारत की उन कंपनी के बारे में जानकारी प्रदान करंगे जिन्हे महारत्न का दर्जा प्राप्त है। महारत्न क्या होता है, कोई भी कंपनी इसके लिए कब योग्य होती है नियम अथवा शर्ते, कितनी कंपनी को महारत्न का दर्जा प्राप्त है आदि।   


Maharatna company.


महारत्न क्या होता है?

महारत्न एक उपाधि है जिसको केंद्र सरकार के भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय द्वारा प्रदान किया जाता है। इस उपाधि की स्थापना दिसंबर 2009 में की गयी। जिसका उद्देश्य बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के केंद्रीय उपक्रमों (Central Public Sector Enterprises) को बढ़ाने तथा विश्व की बड़ी कंपनी के रूप में उभारने में योग्य बनाना है। 


महारत्न प्राप्त करने के नियम तथा शर्तें। 

  • कंपनी को नवरत्न का दर्जा प्राप्त होना चाहिए। 
  • न्यूनतम पब्लिक होल्डिंग के साथ स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्ट हो।
  • पिछले तीन वर्षों में Average Annual Turnover 25,000 करोड़ रुपये से अधिक होना चाहिए। 
  • पिछले तीन वर्षों में Average Annual Net Worth 15,000 करोड़ रुपए से अधिक होना चाहिये।
  • पिछले तीन वर्षों का Average Annual Net Profit 5000 करोड़ रुपए से अधिक होना चाहिये।
  • व्यापार के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कंपनी की महत्वपूर्ण उपस्थिति होनी चाहिए।


महारत्न दर्जा प्राप्त करने वाली कंपनी 

भारत में कुल 10 कंपनी को महारत्न का दर्जा प्राप्त है, जिनके नाम कुछ इस प्रकार है - 


1. भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL)

मुख्यालय - नई दिल्ली 

राजस्व - 29,474.99 करोड़

स्थापना - 1964

महारत्न दर्जा प्राप्त - 1 फरवरी 2013

कुल कर्मचारी - 39,821


2. भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL)

मुख्यालय - मुंबई

राजस्व - 2.87 लाख करोड़ 

स्थापना - 1976 

महारत्न दर्जा प्राप्त - 2017 

कुल कर्मचारी - 12,171


3. कोल इंडिया लिमिटेड (CIL)

मुख्यालय - कोलकाता

राजस्व - 1.02 लाख करोड़ 

स्थापना - नवंबर 1975

महारत्न दर्जा प्राप्त - 11 अप्रैल 2011

कुल कर्मचारी - 2,72,445


4. गेल इंडिया लिमिटेड (GAIL)

मुख्यालय - नई दिल्ली 

राजस्व - 74,054.85 करोड़ 

स्थापना - अगस्त 1984

महारत्न दर्जा प्राप्त - 1 फरवरी 2013

कुल कर्मचारी - 4,529


5. हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL)

मुख्यालय - मुंबई

राजस्व - 2.71 लाख करोड़ 

स्थापना - 1974

महारत्न दर्जा प्राप्त - 23 अक्टूबर 2019

कुल कर्मचारी - 10,352


6. इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL)

मुख्यालय - नई दिल्ली 

राजस्व - 4.87 लाख करोड़ 

स्थापना - 30 जून 1959

महारत्न दर्जा प्राप्त - 16 नवंबर 2010

कुल कर्मचारी - 33,498


7. एनटीपीसी लिमिटेड (NTPC)

मुख्यालय - नई दिल्ली 

राजस्व - 1.12 लाख करोड़ 

स्थापना - 7 नवंबर 1975

महारत्न दर्जा प्राप्त - मई, 2010

कुल कर्मचारी - 19,918


8. तेल और प्राकृतिक गैस निगम लिमिटेड (ONGC)

मुख्यालय - नई दिल्ली 

राजस्व - 4.34 लाख करोड़ 

स्थापना - 14 अगस्त 1956

महारत्न दर्जा प्राप्त - 2010

कुल कर्मचारी - 30,100


9. पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (PGCIL)

मुख्यालय - गुडगाँव/गुरुग्राम

राजस्व - 38,317.97 करोड़ 

स्थापना - 23 अक्टूबर 1989

महारत्न दर्जा प्राप्त - 23 अक्टूबर, 2019

कुल कर्मचारी - 9,255


10. स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (SAIL)

मुख्यालय - नई दिल्ली 

राजस्व - 62,569 करोड़ 

स्थापना - 19 जनवरी 1954

महारत्न दर्जा प्राप्त - 2010

कुल कर्मचारी - 65,807


महारत्न का दर्जा प्राप्त होने के लाभ। 

महारत्न कंपनी किसी प्रोजेक्ट में अपनी net worth का 15% या 5000 करोड़ का निवेश करने का निर्णय बिना सरकार की अनुमति के ले सकती है। 


अंतिम शब्द 

महारत्न कंपनी के बारे में सम्पूर्ण जानकारी। आशा करते है की आपको हमारा यहा लेख पसंद आया होगा। इस लेख के माध्यम से हमने आपको भारत की महारत्न कंपनी और उससे संबंधित जानकारी के बारे में बताया है। अंत में आपसे यही कहेंगे की यदि आपके पास इस लेख से आधारित सवाल या सुझाव हो तो हमको कमेंट करके जरूर बताए धन्यवाद। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ